bharatiya janata party (BJP) logo

Press Releases

Salient points of speech by BJP National President, Shri Amit Shah while addressing meeting of Intellectuals and Eminent citizens at ITC Gardenia, Bengaluru (Karnataka)

Accessibility

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह द्वारा आईटीसी गार्डेनिया, बेंगलुरु में आयोजित प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में दिए गए उद्बोधन के मुख्य बिंदु ,


मोदी सरकार ने कर्नाटक को विकास के लिए यूपीए की तुलना में लगभग ढाई गुना अधिक राशि दी है फिर भी कर्नाटक विकास में इतना पिछड़ा हुआ क्यों है, राज्य की जनता को सिद्धारमैया सरकार से इसका जवाब मांगना चाहिए, आप इसका हिसाब मांगें या न मांगें, मैं तो जरूर मांगूंगा **********


कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार देश की भ्रष्टतम सरकार है, मैंने अपने सार्वजनिक जीवन में ऐसी भ्रष्ट सरकार कहीं नहीं देखी। कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने पर भ्रष्टाचार के दोषियों को दंडित किया जाएगा **********


सरकार ऐसी चुनी जानी चाहिए जो जनता की भलाई के लिए काम करे। आगामी कर्नाटक विधान सभा चुनाव में प्रदेश के विकास के लिए आप राज्य में भारतीय जनता पार्टी सरकार का गठन करें और श्री येदुरप्पा जी को मुख्यमंत्री बनाएं **********


कांग्रेस की यूपीए सरकार के दौरान 13वें वित्त आयोग में केन्द्रीय करों में कर्नाटक की हिस्सेदारी केवल 61,691 करोड़ रुपये थी जबकि मोदी सरकार ने 14वें वित्त आयोग में इसे लगभग ढाई गुना बढ़ाकर 1,86,925 करोड़ रुपये कर दिया **********


अनुदान सहायता के रूप में कर्नाटक को मोदी सरकार ने यूपीए के 11,518 करोड़ रुपये की तुलना में 16,291 करोड़ रुपये आवंटित किये हैं, वहीं स्टेट डिजास्टर रिलीफ फंड में भी 478 करोड़ की वृद्धि करते हुए 1145 करोड़ रुपये आवंटित की गई है **********


मोदी सरकार ने कर्नाटक को लोकल बॉडीज ग्रांट के तौर पर यूपीए के 6,534 करोड़ की तुलना में ढाई गुना वृद्धि ज्यादा 15,145 करोड़ रुपये आवंटित किये हैं, इसी तरह नेशनल डिजास्टर रिलीफ फंड में भी छः गुना वृद्धि की गई है **********


कई सरकारें 50 सालों में एक दो ऐतिहासिक काम करती है, मोदी सरकार ने तीन सालों में ऐसे 50 काम किये हैं जो ऐतिहासिक हैं **********


भारतीय जनता पार्टी सभी पार्टियों से अलग है क्योंकि आज देश में मौजूद लगभग 1650 छोटी-बड़ी पार्टियों में से केवल भारतीय जनता पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसके अंदर आतंरिक लोकतंत्र बचा हुआ है **********


कांग्रेस का अगला अध्यक्ष कौन होगा, जेडी (एस) का अगला अध्यक्ष कौन होगा, यह सब लोगों को पता है लेकिन भारतीय जनता पार्टी का अगला लक्ष्य कौन होगा, यह किसी को मालूम नहीं है **********


भाजपा में अध्यक्ष किसी परिवार में जन्म लेने के आधार पर नहीं, बल्कि अपने कृतित्व के आधार पर बनते हैं, यही कारण है कि यहाँ एक बूथ कार्यकर्ता भी पार्टी का अध्यक्ष बन सकता है और एक गरीब का बेटा व पार्टी का एक छोटा सा कार्यकर्ता भी देश का प्रधानमंत्री **********


1950 से 2017 की जन संघ से भारतीय जनता पार्टी की यात्रा अंत्योदय, एकात्म मानववाद और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की यात्रा रही है और यही हमारे मूल सिद्धांत हैं। अंत्योदय से हमारा मतलब है - विकास की दौड़ में पीछे छूट गए समाज के अंतिम व्यक्ति को विकास की दौड़ में खड़े सबसे पहले व्यक्ति के बराबर लाना **********


देश में जब-जब भारतीय जनता पार्टी की सरकार आती है तो देश की जीडीपी बढ़ती है और देश में जब-जब कांग्रेस की सरकार आती है तो जीडीपी घटती है **********


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने देश के विकास व गरीब-कल्याण के लिए लगभग 106 योजनाओं की शुरुआत की है और इनमें से एक भी योजना ऐसी नहीं है जो किसी एक वर्ग विशेष के लिए बनी हो, ये सभी योजनायें सर्वस्पर्शी एवं सर्वसमावेशी हैं **********


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने देश की राजनीति में से जातिवाद, परिवारवाद और तुष्टीकरण की राजनीति को ख़त्म करने का काम किया है **********


भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने आज आईटीसी गार्डेनिया, बेंगलुरु (कर्नाटक) में प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन को संबोधित किया और भारतीय जनता पार्टी की विचारधारा, सिद्धांतों और कार्यपद्धति पर विस्तार से चर्चा की। विदित हो कि श्री शाह देश के सभी राज्यों में कुल 110 दिनों के अपने विस्तृत प्रवास कार्यक्रम के तहत तीन दिवसीय दौरे पर अभी कर्नाटक में हैं। इससे पहले कैम्पेगौड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुँचने पर एयरपोर्ट टोलगेट के निकट राष्ट्रीय अध्यक्ष जी का भव्य स्वागत किया गया। इसके पश्चात् वे बेंगलुरु स्थित भाजपा प्रदेश कार्यालय ‘जगन्नाथ भवन' पहुंचे जहां उन्होंने प्रदेश भाजपा कार्यालय में पुस्तकालय का उद्घाटन किया। पार्टी कार्यालय में उन्होंने प्रदेश कोर कमिटी के सदस्यों के साथ बैठक की। तत्पश्चात् उन्होंने भाजपा सांसदों, विधायकों एवं विधान परिषद् के सदस्यों के साथ अलग से बैठक की। प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन कार्यक्रम को संबोधित करने से पूर्व उन्होंने होटल आईटीसी गार्डेनिया में प्रदेश पदाधिकारियों, विभागों के प्रभारियों व सहप्रभारियों, विभागों के संगठन सचिवों, जिला अध्यक्षों, जिला महासचिवों, मोर्चा अध्यक्षों, मोर्चा महासचिवों एवं प्रकोष्ठों के प्रदेश संयोजकों के साथ भी विचार-विमर्श किया।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि एक बहुदलीय लोकतांत्रिक संसदीय प्रणाली में किसी भी पार्टी का मूल्यांकन तीन मापदंडों के आधार पर किया जाना चाहिए - पार्टी का आंतरिक लोकतंत्र, पार्टी का सिद्धांत और सत्ता में आने पर सरकार की कार्यपद्धति। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि देश की जनता इन आधारभूत मापदंडों पर राजनीतिक पार्टियों का मूल्यांकन करे। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सभी पार्टियों से अलग है क्योंकि आज देश में मौजूद लगभग 1650 छोटी-बड़ी पार्टियों में से केवल भारतीय जनता पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसके अंदर आतंरिक लोकतंत्र बचा हुआ है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि यदि पार्टी के अंदर ही लोकतंत्र नहीं है तो वह देश का भला नहीं कर सकती, देश के लोकतंत्र नहीं रक्षा नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि देश की अधिकतर पार्टियों में सबको पता है कि उसका अगला अध्यक्ष कौन होगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का अगला अध्यक्ष कौन होगा, जेडी (एस) का अगला अध्यक्ष कौन होगा, यह सब लोगों को पता है लेकिन भारतीय जनता पार्टी का अगला लक्ष्य कौन होगा, यह किसी को मालूम नहीं है, इसका कारण यह है कि भाजपा में अध्यक्ष किसी परिवार में जन्म लेने के आधार पर नहीं, बल्कि अपने कृतित्व के आधार पर बनते हैं। उन्होंने कहा कि देश के जिन-जिन राज्यों में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी, वहां उच्चतम क्षमताओं वाले व्यक्तित्व मुख्यमंत्री बने और उस प्रदेश को विकास के पथ पर अग्रसर करने का काम किया। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी में नेता अपनी निष्ठा, देश के लिए काम करने की लगन, परिश्रम, मेधा और परफॉरमेंस के आधार पर बनते हैं, यही कारण है कि यहाँ एक बूथ कार्यकर्ता भी पार्टी का अध्यक्ष बन सकता है और एक गरीब का बेटा व पार्टी का एक छोटा सा कार्यकर्ता भी देश का प्रधानमंत्री।
श्री शाह ने कहा कि किसी भी दल का तुलनात्मक अध्ययन करने के लिए दूसरा सबसे महत्वपूर्ण मापदंड है - पार्टी का सिद्धांत। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के सिद्धांत को समझने के लिए जन संघ की उत्पत्ति किन परिस्थितयों पर गौर करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि जन संघ की स्थापना उस वक्त हुई थी जब सत्ता प्राप्त का दूर-दूर तक कोई सवाल नहीं था। उन्होंने कहा कि भारतीय जन संघ की स्थापना ही सिद्धांतों के आधार पर देश को एक वैकल्पिक नीति देने के लिए हुई थी। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नेहरू जी के नेतृत्व में जब देश की विकास नीति, कृषि नीति, विदेश नीति, अर्थ नीति, रक्षा नीति और शिक्षा नीति का निर्माण हो रहा था तब डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी सहित कई राष्ट्र मनीषियों को लगा कि नेहरू सरकार देश के लिए जो नीतियाँ बना रही है, उन नीतियों के रास्ते पर यदि यह देश चलता रहा तो पीछे मुड़ने का भी रास्ता नहीं मिलेगा, तब उन लोगों ने एक ऐसी वैकल्पिक नीति को राष्ट्र के सामने रखने का साहस किया जिसमें देश की मिट्टी की सुगंध हो, उससे पाश्चात्य विचारों की बू न आती हो और जो नीतियाँ देश को विकास के पथ पर गतिशील करने में सहायक हो। उन्होंने कहा कि 1950 से 2017 की जन संघ से भारतीय जनता पार्टी की यात्रा अंत्योदय, एकात्म मानववाद और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की यात्रा रही है और यही हमारे मूल सिद्धांत हैं। उन्होंने कहा कि अंत्योदय से हमारा मतलब है - विकास की दौड़ में पीछे छूट गए समाज के अंतिम व्यक्ति को विकास की दौड़ में खड़े सबसे पहले व्यक्ति के बराबर लाना।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के सिद्धांत में मूल अंतर यह था कि कांग्रेस देश की पुरातन विरासत और संस्कृति को ख़त्म कर देश का नवनिर्माण करना चाहती थी जबकि जन संघ देश की पुरातन विरासत और संस्कृति के आधार पर देश का पुनर्निर्माण करना चाहती थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की कोई विचारधारा ही नहीं थी क्योंकि कांग्रेस की स्थापना देश की आजादी प्राप्त करने के लिए की गई थी, कांग्रेस आजादी प्राप्त करने का केवल एक स्पेशल पर्पस व्हेहिकल भर थी। उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस और जन संघ (अब भारतीय जनता पार्टी) द्वारा आजादी के बाद से लेकर अब तक हाथ में लिए गए आंदोलनों को देखा जाय तो यह स्पष्ट हो जाता कि हमारी पार्टी का सिद्धांत क्या है? उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से लेकर अब तक हमने जितने आंदोलन किये हैं, वे सभी देश की समस्याओं के समाधान के लिए किये गए हैं चाहे वह हैदराबाद मुक्ति आंदोलन हो, गोवा मुक्ति आंदोलन हो, कश्मीर को देश का अभिन्न अंग बनाने का आंदोलन हो, राम जन्मभूमि आंदोलन हो, कच्छ सत्याग्रह हो, चेतना यात्रा हो या फिर भ्रष्टाचार के खिलाफ देश भर में जन-जागरण अभियान। उन्होंने कहा कि हमारे मनीषी नेताओं ने अपने जीवन का क्षण-क्षण और शरीर का कण-कण भारत माता की सेवा के लिए समर्पित कर दिया, यही बताता है कि कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के सिद्धांत में क्या अंतर है। उन्होंने कहा कि जो पार्टियां सिद्धांत के आधार पर नहीं चलती हैं, वे देश का भला नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो सिद्धांतों के आधार पर चलती है और देश के खोये हुए गौरव को पुनर्स्थापित करना चाहती है।
श्री शाह ने कहा कि देश की जनता ने कांग्रेस की भी सरकारें देखीं है, क्षेत्रीय दलों की सरकारें भी देखीं है, कुछ राज्यों में वामपंथी दलों की सरकारें भी देखी हैं और भारतीय जनता पार्टी सरकार के कार्यों को भी देखा है और इन सभी सरकारों के विकास आंकड़े अध्ययन के लिए उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि इन आंकड़ों का अध्ययन करने से पता चलता है कि देश में या जब-जब भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है - देश का विकास हुआ है और देश मजबूत हुआ है। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि जब केंद्र में श्री अटल बिहार वाजपेयी जी के नेतृत्व में भाजपा-नीत राजग सरकार बनी तो देश विकास दर 4.4% थी, श्री वाजपेयी जी देश की विकास दर को 8.4% तक ले गए लेकिन मनमोहन सिंह की नेतृत्व वाली कांग्रेस की यूपीए सरकार 10 सालों में फिर से इसे 4% पर ले आई। उन्होंने कहा कि तीन साल से केंद्र में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है, हम तीन वर्षों में फिर से इसे 7.2% तक लाने में सफल हुए हैं। उन्होंने कहा कि इसका मतलब साफ़ है कि देश में जब-जब भारतीय जनता पार्टी की सरकार आती है तो देश की जीडीपी बढ़ती है और देश में जब-जब कांग्रेस की सरकार आती है तो जीडीपी घटती है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार के समय देश विकास के पथ पर आगे इसलिए बढ़ता है क्योंकि पार्टी सिद्धांत के आधार पर काम करती है। उन्होंने कहा कि यदि पार्टी परिवारवाद के आधार पर चलती है तो वह सिद्धांतों के आधार पर कभी नहीं चल सकती।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि याद कीजिये 2014 से पहले के समय को जब देश में कांग्रेस की सोनिया-मनमोहन की सरकार थी, इस सरकार ने 10 वर्ष में लगभग 12 लाख करोड़ रुपये के घोटाले हुए, अर्थव्यवस्था की हालत बदतर थी, युवाओं में आक्रोश था, देश की सीमाएं सुरक्षित नहीं थी, हर तरफ अराजकता का माहौल था। उन्होंने कहा कि आज देश में तीन साल से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है, इन तीन सालों में भारत दुनिया की सबसे तेज गति से विकास करने वाली अर्थव्यवस्था बनी है और तीन सालों में हमारे विरोधी भी हम पर भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं लगा पाए हैं। उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी जी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ लेते हुए ही यह स्पष्ट कर दिया था कि भाजपा की यह सरकार देश के गाँव, गरीब, दलित, पिछड़े और आदिवासियों के कल्याण के लिए समर्पित होगी और सरकार तीन सालों से इसी उद्देश्य के साथ काम कर रही है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने कई प्रकार के अंतर्द्वंद्वों को ख़त्म करने का काम किया है, मोदी सरकार ने तीन साल में यह करके दिखाया है कि किस तरह एक साथ गाँवों और शहरों का विकास किया जा सकता है, बड़े उद्योगों के साथ-साथ लघु उद्योगों का भी विकास किया जा सकता है और आर्थिक विकास के साथ-साथ कल्याणकारी सरकार की भी स्थापना की जा सकती है।
श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने देश के विकास व गरीब-कल्याण के लिए लगभग 106 योजनाओं की शुरुआत की है और इनमें से एक भी योजना ऐसी नहीं है जो किसी एक जो किसी एक वर्ग विशेष के लिए बनी हो, ये सभी योजनायें सर्वस्पर्शी एवं सर्वसमावेशी हैं। उन्होंने कहा कि 104 उपग्रहों को एक साथ अंतरिक्ष में प्रक्षेपित कर भारत अंतरिक्ष के अंदर दुनिया की एक प्रमुख ताकत के रूप में उभरा है, उज्ज्वला योजना के माध्यम से देश के लगभग पौने तीन करोड़ गरीब महिलाओं के घर में गैस सिलिंडर पहुंचाया गया है, साढ़े चार करोड़ से अधिक शौचालय का निर्माण कर महिलाओं को सम्मान के साथ जीने का अधिकार दिया गया है और लगभग 29 करोड़ लोगों के बैंक अकाउंट खोल कर उन्हें देश के अर्थतंत्र की मुख्यधारा में जोड़ा गया है। उन्होंने कहा कि मुद्रा बैंक योजना के माध्यम से देश के करोड़ों गरीब युवाओं को स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराये गए हैं। उन्होंने कहा कि जीएसटी के रूप में ‘एक राष्ट्र, एक कर’ का स्वप्न साकार हुआ है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी, बेनामी संपत्ति क़ानून, शेल कंपनियों के खिलाफ अभियान और मॉरीशस-साइप्रस-सिंगापुर रूट को बंद करके काले-धन पर कठोर कार्रवाई की गई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने योग को पूरी दुनिया में स्वीकृति दिलाकर देश की संस्कृति को प्रतिष्ठित करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा, स्वायल हेल्थ कार्ड, नीम कोटेड यूरिया, सिंचाई योजना, ई-मंडी जैसी योजनाओं के माध्यम से किसानों की आय को 2022 तक दुगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में तेज गति से काम हो रहा है। उन्होंने कहा कि जब श्री नरेन्द्र मोदी के रूप में गरीब का बेटा देश का प्रधानमंत्री बनता है तब इस तरह की गरीब-कल्याण की सोच विकसित होती है और प्रधानमंत्री जी ने देश की सोच के स्केल को ऊपर उठाने का काम किया है।
श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हमने देश को एक भ्रष्टाचार-मुक्त, पारदर्शी और निर्णायक सरकार देने का काम किया है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के तीन सालों में हमारे विरोधी भी हम पर भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं लगा पाए। उन्होंने कहा कि कई सरकारें 50 सालों में एक दो ऐतिहासिक काम करती है, मोदी सरकार ने तीन सालों में ऐसे 50 काम किये हैं जो ऐतिहासिक हैं। उन्होंने कहा कि आंतरिक लोकतंत्र, पार्टी के सिद्धांत और सत्ता में आने पर सरकार की कार्यपद्धति - इन तीनों मापदंडों पर भारतीय जनता पार्टी जन-अपेक्षाओं पर खरी उतरी है। उन्होंने सभा में उपस्थित महानुभावों से अपील करते हुए कहा कि आप जब कोई भी वस्तु लेने बाजार जाते हैं तो काफी जांच-पड़ताल के बाद ही लेते हैं, इसी तरह किसी पार्टी के हाथों इतने विशाल देश की बागडोर सौंपने से पहले उस पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र, पार्टी के सिद्धांत और सरकार बनने पर पार्टी की कार्यपद्धति एवं विकास के आंकड़ों की समीक्षा जरूर करें। उन्होंने कहा कि हाल ही में संपन्न हुए यूपी चुनाव में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने देश की राजनीति में से जातिवाद, परिवारवाद और तुष्टीकरण की राजनीति को ख़त्म करने का काम किया है।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार की लोक कल्याणकारी योजनाओं को कर्नाटक की कांग्रेस सरकार लोगों तक पहुँचने ही नहीं देती। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार देश की भ्रष्टतम सरकार है, मैंने अपने सार्वजनिक जीवन में ऐसी भ्रष्ट सरकार कहीं नहीं देखी। उन्होंने कहा कि सिद्धारमैया सरकार वोट बैंक की राजनीति के चलते भ्रष्टाचारियों को संरक्षित और पोषित देती है, उन्हें दंडित नहीं करती। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने पर भ्रष्टाचार के दोषियों को दंडित किया जाएगा।
श्री शाह ने कहा कि तीन साल में मोदी सरकार ने कर्नाटक के विकास के लिए काफी कार्य किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की यूपीए सरकार के दौरान 13वें वित्त आयोग में केन्द्रीय करों में कर्नाटक की हिस्सेदारी केवल 61,691 करोड़ रुपये थी जबकि मोदी सरकार ने 14वें वित्त आयोग में इसे लगभग ढाई गुना बढ़ाकर 1,86,925 करोड़ रुपये कर दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार के समय 13वें वित्त आयोग में कर्नाटक को 11,518 करोड़ रुपये की अनुदान सहायता प्राप्त हुई थी जबकि मोदी सरकार में कर्नाटक के लिए 16,291 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने स्टेट डिजास्टर रिलीफ फंड में भी 478 करोड़ की वृद्धि करते हुए 1145 करोड़ रुपये आवंटित किये हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की यूपीए सरकार के समय कर्नाटक को लोकल बॉडीज ग्रांट के तौर पर केवल 6,534 करोड़ रुपये मिलते थे जबकि मोदी सरकार ने इसमें ढाई गुना वृद्धि करते हुए 15,145 करोड़ रुपये आवंटित करने का काम किया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने कर्नाटक को नेशनल डिजास्टर रिलीफ फंड के तौर पर कांग्रेस की यूपीए सरकार की तुलना में छः गुने से अधिक की राशि दी है। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार ने 13वें वित्त आयोग में नेशनल डिजास्टर रिलीफ फंड के रूप में कर्नाटक को मात्र 271 करोड़ रुपये की राशि मुहैया कराई थी जबकि मोदी सरकार ने 14वें वित्त आयोग में इसके लिए 1,645 करोड़ रुपये आवंटित किये। उन्होंने कहा कि केवल इन पांच योजनाओं में ही मोदी सरकार ने कर्नाटक के लिए 219506 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की है जो कांग्रेस की यूपीए सरकार की तुलना में ढाई गुना अधिक है। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त कई केन्द्रीय योजनाओं में हजारों करोड़ रुपये की राशि कर्नाटक को उपलब्ध कराई गई है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने कर्नाटक को विकास के लिए इतना पैसा दिया लेकिन फिर भी कर्नाटक विकास में इतना पिछड़ा हुआ क्यों है, राज्य की जनता को सिद्धारमैया सरकार से इसका जवाब जरूर मांगना चाहिए, आप इसका हिसाब मांगें या न मांगें, मैं तो जरूर मांगूंगा। उन्होंने कहा कि कर्नाटक सरकार का विकास रूपी ट्रान्सफार्मर जल चुका है, इसे बदलने का वक्त आ गया है।
राष्ट्रीय अध्यक्ष ने सम्मेलन में उपस्थित प्रबुद्ध जनों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार ऐसी चुनी जानी चाहिए जो जनता की भलाई के लिए काम करे। उन्होंने निवेदन करते हुए कहा कि कर्नाटक का विधान सभा चुनाव आने वाला है, आप इसमें मूक प्रेक्षक न बनें, मूक प्रेक्षक बनने से राज्य का विकास नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि किसी भी लोकतांत्रिक व्यवस्था में हर व्यक्ति की यह जिम्मेदारी होती है कि वह राज्य में विकास को प्रवाहित करने वाली सरकार के निर्माण में भागीदार बने। उन्होंने प्रबुद्ध जनों से अपील करते हुए कहा कि आगामी कर्नाटक विधान सभा चुनाव में प्रदेश के विकास के लिए आप राज्य में भारतीय जनता पार्टी सरकार का गठन करें और श्री येदुरप्पा जी को मुख्यमंत्री बनाएं।
(महेंद्र पांडेय)
कार्यालय सचिव

Tag: 11 | 8 | 7

Share your views. Post your comments below.

Sign Out


Security code
Refresh