bharatiya janata party (BJP) logo

Press Releases

Salient points of speech by Hon'ble Prime Minister, Shri Narendra Modi addressing concluding session of BJP National Executive Meeting at NDMC Convention Centre, New Delhi

Accessibility
  Hindi Version
 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक के समापन अवसर पर दिए गए उद्बोधन के मुख्य बिंदु

  • गत वर्ष हमने पार्टी के विस्तार का अभियान चलाया था, अब समय की मांग है पार्टी के विकास की।
  • हॉरिजॉन्टल एंड वर्टिकल विकास ही हमें स्थायित्व दे सकता है। हॉरिजॉन्टल एंड वर्टिकल विकास का मतलब हमारे इकाइयों की क्षमता और हमारे कार्यकर्ताओं की प्रबुद्धता के विकास से है।
  • हमारी ऊर्जा शक्ति को रचनात्मक कार्यों में ढालना हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती है। हमें जन सामान्य को स्पर्श करने वाले मुद्दों को जन आन्दोलनों में तब्दील करना होगा। हमें गांधी जी द्वारा चलाये गए आन्दोलनों से काफी कुछ सीखने की जरूरत है।
  • हमलोगों की एक राष्ट्रवादी पार्टी की छवि अचानक नहीं बनी है। अब तक के हमारे कार्यक्रमों में राष्ट्रभक्ति और देशप्रेम की ही अवधारणा सर्वोपरि रही है, भारत की एकता और अखंडता हमारे कार्यों की मूल अभिव्यक्ति रही है।
  • हमें अपने कार्यकर्ताओं को विकास के एक नए मॉडल की ओर ले जाने का प्रयास करना चाहिए। राज्य स्तर से बूथ स्तर तक हमें अपने कार्यकर्ताओं के व्यक्तित्व का विकास करना चाहिए। हमें उन्हें विभिन्न विषयों में जागरूक करना होगा। हमें अपने कार्यकर्ताओं को राष्ट्र निर्माण के लिए एक सशक्त सिपाही बनाना है।
  • हमें अपने मोर्चों और प्रकोष्ठों की बैठक अलग-अलग राज्यों में करनी चाहिए और वहां विभिन्न क्षेत्रों में होने वाले विकास को सीखने और समझने का प्रयास करना चाहिए।
  • हम और हमारी पार्टी आज जहां हैं - इससे और आगे ले जाने की जरूरत है।
  • अब तक इस सरकार पर एक भी आरोप नहीं लगा है - न ही भ्रष्टाचार का और न ही कोई राजनैतिक आरोप।
  • नकारात्मक बलों से लड़ने के लिए इंटेलेक्चुअल कैपेबिलिटी और कंटेंट का होना अत्यंत जरूरी है। हम सरकार में हैं, हमें नकारात्मक सोच वाले लोगों को भी सकारात्मक सोच में परिवर्तित करने की जरूरत है।
  • हमें विपक्ष की साजिश को कामयाब नहीं होने देना चाहिए। सरकार के काम पर चर्चा करने की किसी की भी हिम्मत नहीं है, विपक्ष विकास पर बात कर ही नहीं सकता, वे हमें व्यर्थ के मुद्दों में उलझाकर देश की जनता का ध्यान भटकाना चाहते हैं। हमें इन व्यर्थ के मुद्दों में ना उलझते हुए अपने विकास के एजेंडे पर चलना चाहिए। 
  • दुनिया भर के सूफी सम्प्रदाय का एक सफल और विशाल सम्मलेन चल रहा है और कई सकारात्मक बातें निकलकर सामने आ रही है लेकिन लोग सकारात्मक विचारधारा को आगे नहीं बढ़ने देना चाहते हैं।
  • हमें एक ही मूल मंत्र को लेकर आगे चलना है - विकास, विकास और विकास, यही हमारी सारी समस्याओं का समाधान है और इसी दिशा में हम काम कर रहे हैं। इससे देश में और समाज में काफी सकारात्मक बदलाव आ रहा है और देश विकास के पथ पर तीव्र गति से आगे बढ़ता जा रहा है।
  • केंद्र में हमारी सरकार के बनते समय 18000 ऐसे गाँव थे जो आजादी के इतने वर्षों बाद भी अँधेरे में डूबे हुए थे। मैंने 1000 दिन में 18000 गाँवों को रौशन करने का प्रण लिया। आज मुझे इस बात की खुशी है कि एक वर्ष के अंदर ही हमने 40% से अधिक गाँवों में बिजली पहुंचाने का कार्य पूरा कर लिया है और शेष बचे गाँवों में भी 2017 तक ही बिजली पहुंचाने का काम पूरा कर लिया जाएगा। 
  • उन गाँवों में खासकर जहां 60 वर्षों बाद कहीं जाकर बिजली आई है, हमें वहां ऊर्जा उत्सव मनाना चाहिए। हमें उनके आनंद को कमल से जोड़ना चाहिए।
  • इस बजट में बहुत सी अच्छी-अच्छी घोषणाएं की गयी हैं, कुछ छोटी घोषणाएँ भी हैं किन्तु उनका बहुत बड़ा लाभ होनेवाला है, जैसे कि छोटे-छोटे दुकानदार भी सातों दिन मॉल की तरह अपनी दुकानें खोल सकते हैं और देर रात तक चला सकते हैं, इससे लाखों लोगों के लिए रोजगार की संभावना भी बनती है।
  • मुद्रा योजना से देश भर के करोड़ों युवाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त हुए हैं। इस योजना से ट्रांसपोर्ट क्षेत्र जैसे विभिन्न क्षेत्रों में भी उद्यमिता के अवसर तैयार किये जा सकते हैं। कार्यकर्ताओं को मुद्रा लोन लेनेवाले लोगों की मीटिंग बुलानी चाहिए और उनके अनुभव ऑनलाइन साझा करने चाहिए ताकि इस योजना में आनेवाली समस्याओं को दूर भी किया जा सके और इस योजना से रोजगार के क्षेत्र में हुए क्रांतिकारी परिवर्तन के बारे में दुनिया भर के लोगों को पता भी चल सके।
  • कार्यकर्ता इन तमाम सकारात्मक पहलुओं को मजबूती से निचले स्तर तक ले जाएँ और इन लोक-कल्याणकारी योजनाओं से आम जनता को लाभान्वित करने का प्रयास करें।
  • हरियाणा में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ आंदोलन काफी सफल रहा है। हमें इसे हर प्रदेश में एक जन-आंदोलन के रूप में चलाने की जरूरत है।
  • विकास में पीछे रह गए राज्यों के लिए हमने अलग से डिस्ट्रिक्ट मिनरल फंड की योजना तैयार की है और मेरा मानना है कि आदिवासी क्षेत्रों के विकास का इससे बड़ा कोई और मॉडल नहीं हो सकता। हमें इसके प्रचार - प्रसार की जरूरत है, साथ ही इस कोष का उपयोग इन पिछड़े इलाकों में रह रहे लोगों की भलाई के काम में होना चाहिए, इसे भी सुनिश्चित करना है।
  • आजादी के बाद पहली बार ऐसा हुआ है कि एक वर्ष में ही एक करोड़ गरीब परिवारों को मुफ्त गैस कनेक्शन की सुविधा मिली है। हमें जन-कल्याण के इस अभूतपूर्व कार्य को जनता के बीच ले जाने की जरूरत है।
  • हमारा काम है - विकास और आम जनता की भलाई के लिए चलाई जा रही योजनाओं को देश के अंतिम गाँव, अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना।
  • हम सरकार में हैं और जनता का समर्थन हमारे साथ है, हमें इस अनुकूल परिस्थिति का महत्तम लाभ उठाना चाहिए। हमें लोगों को और खासकर समाज के प्रबुद्ध जनों को अपने से जोड़ने की दिशा में काम करना होगा, किसी को अपने से दूर रखना समझदारी नहीं है, विरोधियों को भी संगठन से जोड़ने का प्रयास किया जाना चाहिए। हमारे सामर्थ्य को क्वालिटेटिव चेंज की जरूरत है। हमें हमारी युवाशक्ति के पास देशभक्ति की प्रेरणा लेकर जाना चाहिए और उनकी अक्षय ऊर्जा का उपयोग राष्ट्र के नवनिर्माण में करना चाहिए।
  • हमें तय करना है कि हमें संगठन को लोहे की तरह ताकतवर बनाना है या फिर एक बटवृक्ष की तरह विशाल, जो दूसरों को हमेशा कड़ी धूप से बचाकर उन्हें शीतल छाया प्रदान करता है।

***************

 

Share your views. Post your comments below.

Sign Out


Security code
Refresh