bharatiya janata party (BJP) logo

Press Releases

Press statement issued by BJP National Media Head, Shri Anil Baluni on 14.09.2018

Accessibility

 

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख श्री अनिल बलूनी द्वारा जारी प्रेस वक्तव्य

 

कांग्रेस की यूपीए सरकार और विजय माल्या के संबंध कितने घनिष्ठ रहे हैं, इसका खुलासा कई मीडिया रिपोर्टों में हुआ है। जब यूपीए सरकार का प्रधानमंत्री, वित्त मंत्री और नागर विमानन मंत्री ही नियमों के परे जाकर एक डिफॉल्टर को सरकार और बैंकों के माध्यम से मदद पहुंचा रहा हो तो फिर इससे बड़ा भ्रष्टाचार का सबूत और क्या हो सकता है?

राहुल गाँधी इन तथ्यों पर जवाब देने से क्यों भागते हैं?

इन प्रश्नों पर उनके होठ क्यों सिल जाते हैं?

      1. फरवरी, 2011 में कांग्रेस की यूपीए सरकार के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह ने क्या यह बयान नहीं दिया था कि हमें किंगफिशर को मुसीबत से बाहर निकलने के तरीके खोजने हैं?

       2. क्या यह सही नहीं है कि साल 2010 से लेकर 2013 के बीच विजय माल्या ने ऐसे कई ईमेल डॉ. मनमोहन सिंह को किए, जिसके बाद तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने तमाम नियम कायदों को दरकिनार करते हुए किंगफिशर एयरलाइंस को लोन मामले में राहत पहुंचाई?

       3. क्या ये सच नहीं है कि विजय माल्या ने सरकार द्वारा नियमों को ताक पर रख कर दिए गए राहत के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिख कर धन्यवाद किया था?

      4. क्या यह सच नहीं है कि 2012 में यूपीए-2 के दौरान तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने न केवल किंगफिशर के स्टेट बैंक अकाउंट को फ्रीज्ड से फ्री किया, अपितु उसके बेलआउट पैकेज को भी ग्रांट किया जिसके बाद स्टेट बैंक ने किंगफिशर को बचाने के लिए 1500 करोड़ रुपये ग्रांट किये थे जबकि लागातार घाटे में चल रहे किंगफिशर के स्टेट बैंक एकाउंट को सील कर दिया गया था?

       5. क्या यह सही नहीं है कि यूपीए सरकार के दौरान नागर विमानन मंत्री वायलार रवि ने विजय माल्या से मुलाक़ात कर सार्वजनिक रूप से सरकार द्वारा बैंकों के माध्यम से किंगफिशर को मदद करने की बात कही थी?

       6. क्या यह सच नहीं है कि माल्या को लोन के एवज में यूपीए की चेयरपर्सन और तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गाँधी और तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने मुफ्त में किंगफिशर एयरलाइंस से बिजनेस क्लास में सफ़र करते थे?

       7. क्या ये सच नहीं है कि विजय माल्या को अधिकतर लोन सोनिया-मनमोहन सरकार के समय ही दिए गए थे?

आखिर इससे बड़ा भ्रष्टाचार का सबूत और क्या हो सकता है कि विजय माल्या को कांग्रेस सरकार ही पाल-पोस रही थी? राहुल गाँधी इन प्रश्नों के उत्तर क्यों नहीं दे रहे?

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी वैचारिक दिवालियेपन के शिकार हैं। उन्होंने खुद ही नहीं पता कि वे क्या बोलते हैं, क्या करते हैं और क्या समझते हैं।

देश की जनता राहुल गाँधी से इन प्रश्नों के जवाब चाहती है। कांग्रेस पार्टी देश में भ्रष्टाचार की जननी है। जीप घोटाले से लेकर आज तक, मोदी सरकार के साढ़े चार साल पूरे हो जाने के बाद भी कांग्रेस के घोटाले ही एक के बाद एक सामने आ रहे हैं।

(महेंद्र पांडेय)

कार्यालय सचिव

Tag: 7

Share your views. Post your comments below.

Sign Out


Security code
Refresh